एयरटेल, जियो सब्सक्राइबर जोड़ने से मार्च में टेलीकॉम यूजर बेस बढ़ाने में मदद मिली: ट्राई

0
9


दूरसंचार नियामक ट्राई ने गुरुवार को अपनी मासिक रिपोर्ट में कहा कि मार्च 2022 में भारती एयरटेल और रिलायंस जियो के कुल ग्राहकों की संख्या बढ़कर 116.69 करोड़ से अधिक हो गई। भारती एयरटेल और रिलायंस जियो ने मार्च में मोबाइल टेलीफोनी के साथ-साथ फिक्स्ड लाइन सेवा खंड में नए ग्राहक जोड़े।

मार्च के लिए ट्राई की ग्राहक रिपोर्ट में कहा गया है, “भारत में टेलीफोन ग्राहकों की संख्या फरवरी 2022 के अंत में 1,166.05 मिलियन से बढ़कर मार्च 2022 के अंत में 1,166.93 मिलियन हो गई।”

भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राईरिपोर्ट में कहा गया है कि मार्च से फरवरी के बीच शहरी टेलीफोन उपभोक्ताओं की संख्या 64.77 करोड़ से घटकर 64.71 करोड़ और ग्रामीण उपभोक्ताओं की संख्या 51.82 करोड़ से बढ़कर 51.98 करोड़ हो गई।

रिपोर्ट के मुताबिक, मार्च में वायरलेस सब्सक्राइबर्स की कुल संख्या बढ़कर 114.2 करोड़ हो गई, जो फरवरी में 114.15 करोड़ थी।

भारती एयरटेल और रिलायंस जियो मार्च में नए मोबाइल ग्राहकों के एकमात्र लाभार्थी थे। मार्च में एयरटेल का शुद्ध मोबाइल ग्राहक जुड़ाव 22.55 लाख था जबकि Jio का शुद्ध जोड़ 12.6 लाख था।

वोडाफोन आइडिया रिपोर्ट किए गए महीने के दौरान मोबाइल ग्राहकों की सबसे बड़ी हार थी। कंपनी ने 28.18 लाख से अधिक ग्राहक खो दिए।

राज्य के स्वामित्व बीएसएनएल और एमटीएनएल क्रमश: 1.27 लाख और 3,101 मोबाइल कनेक्शन गंवाए।

निजी दूरसंचार ऑपरेटरों ने वायरलाइन (फिक्स्ड लाइन) खंड में विकास को गति दी। वायरलाइन ग्राहकों की संख्या मार्च में बढ़कर 2.48 करोड़ हो गई, जो फरवरी में 2.45 करोड़ थी।

रिलायंस जियो ने 2.87 लाख के शुद्ध ग्राहक जुड़ाव के साथ वायरलाइन सेगमेंट में बढ़त जारी रखी। भारती एयरटेल ने 83,700 नए ग्राहक जोड़े, क्वाड्रेंट 19,683, वोडाफोन आइडिया 14,066 और टाटा टेलीसर्विसेज 1,054।

बीएसएनएल और एमटीएनएल ने इस सेगमेंट में क्रमश: 67,634 और 15,576 ग्राहक गंवाए। मार्च में कुल ब्रॉडबैंड ग्राहक भी बढ़कर 78.83 करोड़ हो गए, जो फरवरी में 78.33 करोड़ थे।

मार्च में शीर्ष पांच सेवा प्रदाताओं ने कुल ब्रॉडबैंड ग्राहकों का 98.48 प्रतिशत बाजार हिस्सा बनाया।

ट्राई की रिपोर्ट में कहा गया है, “ये सेवा प्रदाता रिलायंस जियो इन्फोकॉम लिमिटेड (40.92 करोड़), भारती एयरटेल (21.52 करोड़), वोडाफोन आइडिया (12.24 करोड़), बीएसएनएल (2.71 करोड़) और अटरिया कन्वर्जेंस (20 लाख) थे।”


.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here